आज़ादी वी‌डियो

  •  

    हिमाचल प्रदेश के सोलन में बच्चो के लिए स्कूल हैं और शिक्षा का अधिकार कानून भी लागू है. फिर भी एक सामान्य दिन में आप इन में से बहुतो को स्कूल में नहीं पायेंगे. उलटे आप इन बच्चो को कचरा उठाते या किसी दूसरे प्रकार के श्रम में संलग्न पायेंगे. गरीब और वंचित तबकों के इन बच्चे के माता पिता कहते हैं कि इनके द्वारा कमाई गयीं धन राशि परिवार के भरण पोषण के लिए आवश्यक है.

  •  

  • राजस्थान के करौली जिले में भ्रष्ट वार्ड मेम्बरों की वजह से ज़रूरतमंद गरीब जनता BPL (गरीबी की रेखा से नीचे) राशन कार्ड के लाभ से वंचित है. जब कि अपने रौब और रुतबे के चलते गरीबी की रेखा से ऊपर रहने वाले लोग इस स्कीम का फायदा उठा रहे हैं.

  • सरकार के द्वारा गरीबी के रेखा के नीचे रहने वाले लोगों को मुफ्त घर प्रदान करने की योजना के बाद भी, छत्तीसगढ़ के ग्रामीण इलाकों में रहने वाले अति निर्धन लोग आज भी बिना पक्के घर के ही रह रहे हैं.

  • हरियाणा में लडवा के बरोत नामक गाँव में दलितों को इस मंदिर में घुसने की इजाज़त नहीं है. हालांकि इस गाँव में दलित ही बहुसंख्या में हैं पर फिर भी केवल ऊंची जाति के लोग ही इस मंदिर में दाखिल हो सकते हैं.

  • इस वीडिओ में सत्यवान वर्मा हरयाणा के ईंटा भट्टों में बाल श्रमिकों के हालात पर जानकारी दे रहे हैं. यहाँ काम करने वाले ज़्यादातर बच्चे 14 वर्ष की उम्र से कम हैं. शिक्षा के अधिकार से पूरी तरह वंचित ये बच्चे जिस जगह रहते हैं, वहाँ आस पास कोई स्कूल नहीं है.

Pages