कमेन्टरी - स्वामीनाथन एस. ए. अय्यर

स्वामीनाथन एस. ए. अय्यर

इस पेज पर स्वामीनाथन एस. ए. अय्यर के लेख दिये गये हैं। ये लेख शीर्ष बिजनेस अखबारों में स्वामीनॉमिक्स कॉलम में प्रकाशित होते हैं।

पुरा लेख पढ़ने के लिये उसके शीर्षक पर क्लिक करें।

अधिक जानकारी के लिये देखें: http://swaminomics.org

लकवाग्र्सत और जोखिम उठाने से डरनेवाली यूपीए-2 अचानक जोखिम उठानेवाली सुधारवादी बन गई है। पिछले हफ्ते उसने खुदरा क्षेत्र में एफडीआई के मुद्दे पर संसद में हारने तक का जोखिम उठाया। उसकी जीत बताती है कि भाग्य भी बहादुर लोगों का साथ देता है।

अपने शासनकाल के पहले साढ़े तीन सालों में यूपीए -2 ने अपना अस्तित्व बचाने की कोशिश की नकि काम कर दिखाने की। लोकसभा में उसके  अत्यल्प बहुमत ने उसके ममता बनर्जी जैसे सहयोगियों को तो वीटो का अधिकार दे दिया था। उस महिला ने पैट्रोल की कीमतों और तीस्ता के पानी के

Published on 11 Dec 2012 - 18:50

कांग्रेस पार्टी जल्दी ही एक कार्यक्रम शुरू करनेवाली है जिसके बारे में उसका खयाल है कि वह चुनाव जीताऊ होगा। यह कार्यक्रम है –इलेक्ट्रानिक नकदी हस्तांतरण योजना । इसके जरिये सरकारी भुगतानों और सब्सिडियों को मौजूदा भ्रष्टाचार और अपव्यय वाले तरीकों के बजाय सीधे लाभार्थियों के खातों में भेजा जाएगा। 1जनवरी से सरकार 29 किस्म के लाभों को (जैसे पेंशन, स्कालरशिप, ईंधन सब्सिडी) सभी की इलेक्ट्रानिक पहचान करनेवाली आधार योजना का फायदा उठाते हुए  नकदी हस्तांतरण योजना के तहत हस्तांतरित किया  जाएंगा। कुछ समय बाद 42 लाभों को इस

Published on 5 Dec 2012 - 18:25

गुजरात चुनाव में फिर ये आरोप फिर दागे जाएंगे कि नरेंद्र मोदी  ने 2002 में गुजरात में  एक हजार मुस्लिमों की हत्या  कराई और भाजपा राजीव गांधी पर  1984 के दिल्ली दंगों में 3000 सिक्खों की हत्या का आरोप लगाएगी। इन सब चीजों को एक परिप्रेक्ष्य में रखने के लिए मैंने पिछले दशकों के सांप्रदायिक दंगों में शोध किया। मुझे यह जानकर अचरज हुआ कि सबसे बड़ा सांप्रदायिक हत्याकांड मोदी और राजीव के मातहत नहीं वरन नेहरू के शासनकाल में हुआ था। उनके शासनकाल में 1948 में  हैदराबाद पर कब्जे के दौरान 50000 से 200000 के बीच

Published on 28 Nov 2012 - 14:59

Pages