आखिर क्या है इस महिला किसान की व्यथा !

आखिर इस महिला को उस मराठी कहावत की याद दिलाने की जरूरत क्यों पड़ रही है जिसमें कहा जाता है कि 'बैल आजारी पड़ला तार चलेल, बाइल आजारी नको पड़ैला' यानि कि बैल अगर बीमार पड़ जाए तो फिर भी खेती हो सकती है लेकिन घरवाली अगर बीमार पड़ जाए तो काम नहीं चल सकता..!

क्यों कहना पड़ रहा है कि जो युवक अपनी आजीविका के लिए खेती को चुनता है आज उसका विवाह होना मुश्किल हो जाता है..

- आजादी.मी

किसान
महिला किसान
फार्मर्स
अकोला के किसान
किसान सत्याग्रह
एचटीबीटी बीज
बीटी कपास
Farmers
agriculture
kisan satyagrah
HTBT seeds
BT Cotton
BT brinjal