सार्वजनिक नीति - अन्य लेख

इस पेज पर विभिन्न लेखकों द्वारा विभिन्न विषयों पर लिखे गये लेख दिये गये हैं। पुरा लेख पढ़ने के लिये उसके शीर्षक पर क्लिक करें। आप लेख पर अपनी टिप्पणीयां भी भेज सकते हैं।

प्रसेनजीत बोस मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के युवा नेता है । इसके अलावा  वे पार्टी की रिसर्च यूनिट के संयोजक हैं। पिछले दिनों सतीश पेडणेकर  ने उनसे बजट और देश की आर्थिक स्थिति पर बातचीत की । यहां उसके कुछ अंश प्रस्तुत हैं -

कभी बजट केवल बैलेंस आफ बुक ही नहीं होता था उससे देश की आर्थिक नीति की दिशा भी तय होती थी। क्या अब बजट का वह महत्व खत्म हो रहा है?

बैलेंस आप बुक तो करना ही है । सवाल यह है कि आप बैलेंस आफ बुक किस तरह कर रहे हैं। इससे ही आपकी दिशा तय होती है। सरकार की नीति

पिछले दिनों एक किताब हाथ लगी। उसका शीर्षक देखकर ही मैं चौंक गया। शीर्षक था –मोरलिटी आफ कैपिटलिज्म यानी पूंजीवाद की नैतिकता। चौंकने की वजह यह थी कि पहली बार पता चला कि पूंजीवाद की भी कोई नैतिकता होती  है । अब तक तो यही जाना था कि  पूंजीवाद और नैतिकता का कोई लेना देना नहीं है । कुछ लोग कहते हैं कि पूंजीवाद नैतिकतावहीन है तो कुछ लोगों का कहना था कि पूंजीवाद अनैतिक है। कुछ व्यंग्य में कहते थे कि पूंजीवाद की एक ही  नैतिकता है कि ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाओ और अपनी तिजोरियां भरो। वामपंथियों का जो प्रचार हम लोग सुनते थे उसका एक ही लब्बोलुबाब यही होता था कि

आदि काल से ही महिलाओं को उनकी दर्द सहने की अदभुत क्षमता के कारण सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है। लेकिन दर्द सहने की यह क्षमता ही कभी-कभी उनके लिए मुसीबत का सबब बन जाती है और उन्हें अपनी जान से हाथ भी धोना पड़ जाता है। हार्ट अटैक के मामले में तो यह अदभुत क्षमता और ज्यादा खतरनाक साबित होती है। जी हां, अमेरिका में हुए एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि हार्ट अटैक के कारण महिलाओं की मृत्यु की प्रतिशतता पुरूषों की मृत्यु की प्रतिशतता से कहीं ज्यादा (लगभग ४१ फीसदी) होती है। इसका कारण महिलाओं में दर्द सहने की जबरदस्त क्षमता का होना ही होता है।

अगर आप अक्सर रेल यात्रा करते हैं और आपको आपनी जान प्यारी है तो अगली बार आपको रेल में यात्रा करने से पहले दस बार सोचना चाहिए। कम से कम  अनिल काकोडकर समिति की रेलवे सुरक्षितता के बारे में आई रपट के बाद तो आपको चौकन्ना हो ही जाना चाहिए। एक तरह से रेल मंत्रालय के खिलाफ आरोपपत्र है यह रपट कि वह किस तरह रेलयात्रियों की जान के साथ खिलवाड कर रहा है। खराब और दोषपूर्ण रेलवे ट्रेक ,असुरक्षित खस्ताहाल कोच, बरसों पुराने रेलवे पुल,लिकिंग ब्रेक - यह हालत है रेलवे की सुरक्षितता की । तभी तो पचास प्रतिशत ट्रेन दु्र्घटनाएं पटरी से उतरने के कारण होती है तो 36 प्रतिशत अनमैन्ड लेवल

क्या आपको पता है, आपकी जानकारी व अनुमति के बगैर आपका मोबाइल फोन न केवल हैक कर उससे की गई बातचीत व एसएमएस की जानकारी ली जा सकती है बल्कि उससे फोन काल व एसएमएस भी किए जा सकते हैं। और तो और इसके लिए हैकर्स को आपके फोन को हाथ लगाने की भी जरूरत नही पड़ेगी। हैकर्स सात समुंदर पार बैठकर भी भारतीय मोबाइल फोन धारकों के फोन व नंबर को मनचाहे तरीके से इस्तेमाल कर सकते हैं। अफसोस कि ऐसी स्थिति किसी नई तकनीकी के अविष्कार की वजह से नहीं बल्कि मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनियों की लापरवाही के कारण उत्पन्न हुई है। पणजी में साईबर विशेषज्ञों के एक दल ने सर्विस आपरेटरों के सुरक्षित सेवा प्रदान

टाम पामर ने कई लेखों की एक अनूठी श्रृंखला तैयार की है जिसमें पूंजीवाद के नैतिक आयाम के बारे में श्रेष्ठ चिंतन को संकलित किया गया है। मुझे इस बात की खुशी है कि इस प्रस्तावना के जरिये मुझे इस बहस में योगदान करने के लिए आमंत्रित किया गया।

हालांकि 1991 के सुधारों के बाद दो दशक गुजर चुके हैं जब भारत ने खुले बाजार अपनाया था। लेकिन अब भी पूंजीवाद भारत में  अपने लिए जगह बनाने की कोशिश कर रहा है। ज्यादातर लोगों की तरह भारतीय भी मानते हैं कि बाजार कुशल तो होता है लेकिन नैतिक नहीं।लेकिन मेरा मानना बिल्कुल उल्टा है कि लोग अनैतिक हो सकते हैं और खराब

हमारी संस्कृति की अनेक खूबियों में से एक है उसका उदारवाद। हमारे ग्रंथों ने हमें सभी लैंगिक समूहों और उनकी यौन अभिरुचियों का सम्मान करने की सीख भी दी है, फिर चाहे वे हमसे भिन्न ही क्यों न हों। लेकिन इसके बावजूद आज भी हम भिन्न यौन अभिरुचियों वाले व्यक्तियों के प्रति पर्याप्त उदार और सहिष्णु नहीं हो पाते। उभयलिंगियों को तो हमने हाशिये का उपेक्षित समुदाय बना डाला है। बर्बर देशों की तरह हम 'व्यभिचारियों' को पत्थर मार-मारकर मार तो नहीं डालते, लेकिन एक तरह से उनका सामाजिक बहिष्कार जरूर कर देते हैं। उन्हें अन्य तरीकों से यंत्रणा दी जाती है और वे हमारी घृणा और हिकारत का

आंध्रप्रदेश सरकार माओवादी हिंसा पर प्रभावी ढंग से काबू पाने के लिए अपनी पीठ थपथपा सकती है। वैसे सारे देश को ही उसकी पीठ थपथपानी चाहिए। पिछले तीस वर्षों के दौरान वर्ष 2011 पहला मौका है जब राज्य में माओवादी हिंसा में  भारी कमी आई है। इस साल माओवादी हिंसा के केवल 41 मामले दर्ज हुए, छह लोगों की जानें गईं और कोई भी पुलिसवाला हिंसा का शिकार नहीं बना। यह आंकंड़े बताते है  कि माओवादी हिंसा से सबसे ज्यादा त्रस्त इस राज्य ने पिछले तीन दशकों में माओवादी हिंसा से लगातार संघर्ष करने के बाद उसपर प्रभावी तरीके से नियंत्रण पाने में महत्वपूर्ण सफलता पाई है। ऐसे समय जब हाल ही

Pages