कमेन्टरी - गुरचरण दास

गुरचरण दास

इस पेज पर गुरचरण दास के लेख दिये गये हैं। उनके लेख विभिन्न भारतीय एवं विदेशी शीर्ष पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते हैं। इसके अलावा उन्होने कई बेस्टसेलर किताबें भी लिखी हैं।

पुरा लेख पढ़ने के लिये उसके शीर्षक पर क्लिक करें।

अधिक जानकारी के लिये देखें: http://gurcharandas.org

भारतीय सात जनवरी की सुबह उठे तो उन्हें विश्वास नहीं हुआ कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के समर्थक यूएस कैपिटल में घुस गए थे। मौजूदा राष्ट्रपति द्वारा लोकतंत्र पर हमला करना, निष्पक्ष चुनाव को पलटने का प्रयास करना अमेरिकी इतिहास में मनहूस पल था। भारत में प्रतिक्रिया बंटी हुई थी। कुछ को चिंता थी कि कमजोर अमेरिका आक्रामक चीन पर नियंत्रण कर भारत की मदद नहीं कर पाएगा।

वहीं कुछ दुनियाभर को दशकों से लोकतंत्र पर ज्ञान देने वाले अमेरिका को खुद

Published on 17 Jan 2021 - 00:00

किसान आंदोलन सरकार के लिए सबक है कि सुधार थोपे न जाएं, उनपर पहले समर्थन जुटाना जरूरी है

पंजाब के किसानों के मौजूदा आंदोलन में कई सबक हैं। उनमें से एक है कि राजनीति छोटा खेल है, एक 20-20 मैच, जबकि अर्थव्यवस्था लंबा, पांच दिवसीय टेस्ट मैच है। पंजाब के किसान 20-20 खेल रहे हैं और सरकार टेस्ट मैच। इस बेमेलपन के कारण दूसरा सबक यह है कि लोकतंत्र में सुधार मुश्किल है। एक लोकवादी एक रुपए प्रतिकिलो चावल देने का वादा कर

Published on 11 Dec 2020 - 20:45

अर्थशास्त्री और लेखक गुरचरण दास कृषि क्षेत्र में सुधार के एक बड़े पैरोकार हैं और मोदी सरकार द्वारा लागू किये गए तीन नए कृषि क़ानूनों को काफ़ी हद तक सही मानते हैं. लेकिन 'इंडिया अनबाउंड' नाम की प्रसिद्ध किताब के लेखक के अनुसार प्रधानमंत्री किसानों तक सही पैग़ाम देने में नाकाम रहे हैं. वो कहते हैं कि नरेंद्र मोदी दुनिया के सबसे बड़े कम्युनिकेटर होने के बावजूद किसानों तक अपनी बात पहुंचाने में सफल नहीं रहे.

Published on 5 Dec 2020 - 12:31

Pages