संपादकीय कोना - अविनाश

अविनाश चंद्रा

इस पेज पर अविनाश चंद्रा के लेख दिये गये हैं।

  • मनचाहे क्रेता को फसल बेचने की आज़ादी मिली, मनचाहे बीज से फसल उगाने की आज़ादी कब 
  • जीएम बीजों के इस्तेमाल की अनुमति के लिये किसान लंबे समय से कर रहे हैं मांग
  • खेती को लाभदायक बनाने के लिये लागत में कमी आवश्यक, एचटीबीटी हो सकता है कारगर

Published on 8 Oct 2020 - 16:46

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति आने के बाद से ही आरंभिक शिक्षा का माध्यम क्या हो इसे लेकर बहस का दौर फिर से शुरु हो गया है। बहस इस बात पर है कि छात्रों को प्राथमिक शिक्षा स्थानीय भाषा में प्रदान करना ठीक होगा या मातृभाषा में या फिर हिंदी में!
 
थोड़ा फ्लैश बैक में चलते हैं। अभी उस जमाने को बीते तीन दशक भी नहीं हुए हैं जब देश में सर्वाधिक सुसंस्कृत व उच्च शिक्षित लोग अंग्रेजी बोला करते थे। यदि आप उन लोगों में से रहे हों तो पता होगा कि वह कितना अद्‌भुत दौर था। मेरे मरहूम दादाजी

Published on 4 Oct 2020 - 12:39

आम तौर पर सार्वजनिक चयन को अर्थशास्त्र का विषय माना जाता है। लेकिन एडम स्मिथ इंस्टिट्यूट के डायरेक्टर और अर्थशास्त्री एमॉन बटलर इसे अर्थशास्त्र की तुलना में राजनीति विज्ञान को अधिक करीब पाते हैं। उनके मुताबिक सार्वजनिक चयन यह कभी भी बताने की कोशिश नहीं करता है कि अर्थव्यवस्था कैसे काम करती है। बल्कि अर्थशास्त्र की विधियों और तरीकों का इस्तेमाल कर वह यह बताने की कोशिश करता है कि राजनीति और सरकार कैसे काम करती हैं। बटलर के मुताबिक सार्वजनिक चयन, एक नज़रिया है जो आश्चर्यजनक विचारों को जन्म देता

Published on 30 Sep 2020 - 00:00

Pages