आरटीई के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए साथ आए सीसीएस और एमसीडी

दिल्ली के निजी व महंगे स्कूलों द्वारा अब पड़ोस के आर्थिक रूप से कमजोर व पिछड़ी जाति के छात्रों को निशुल्क दाखिला देने से इंकार करना संभव नहीं हो सकेगा। जी हां, पड़ोस के निजी स्कूलों में मुफ्त दाखिले की चाह रखने वाले गरीब व पिछड़ी जाति के छात्रों के अभिभावकों को अब पर्याप्त जानकारी के अभाव में भ्रमित करना और नियम और शर्तों का हवाला देते हुए स्कूल में भर्ती करने में आनाकानी बरतना महंगा साबित होने वाला है। दिल्ली सरकार व शिक्षा निदेशालय द्वारा पहले से ही अपनाए गए कड़े रुख के क्रम में अब दिल्ली नगर निगम ने भी आस्तीनें चढ़ा ली हैं। यहां तक कि एमसीडी ने अपने अधीन क्षेत्रों में पम्फलेट बांटकर व मुनादी कराकर लोगों को निजी स्कूलों में निशुल्क दाखिले की प्रक्रिया की जानकारी देने की योजना बनाई है। इसके अतिरिक्त एक हेल्पलाइन भी शुरू की गई है जहां फोन कर कोई भी व्यक्ति दाखिले के बाबत जानकारी ले सकता है। योजना को अमली जामा पहनाने के लिए गैर सरकारी संगठन सेंटर फॉर सिविल सोसायटी की भी सहायता ली जाएगी। दक्षिणी दिल्ली में तो इस कार्य को अंजाम दिया जाना शुरू भी कर दिया गया है।

शिक्षा का अधिकार (आरटीई) कानून के लागू होने के बावजूद निजी स्कूलों द्वारा गरीबों, अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजाति व अन्य पिछड़े वर्गों के छात्रों को 25 प्रतिशत सीटों पर निशुल्क दाखिला देने में आनाकानी करना आसान नहीं होगा। इसके साथ ही दाखिला लेने आए सीधे-सादे लोगों को नियम और शर्तों का हवाला देते हुए टालना भी संभव नहीं होगा। एमसीडी ने गैर सरकारी संगठन सेंटर फॉर सिविल सोसायटी (सीसीएस) की सहायता से एक हेल्पलाइन नंबर 9899485667 भी शुरू किया है। इस हेल्प लाइन व दाखिले के बाबत विस्तृत सूचना मुहैय्या कराने के लिए एमसीडी क्षेत्र में आने वाले इलाकों में पम्फलेटों का वितरण व उदघोषणा करायी जाएगी। दक्षिणी व पूर्वी नगर निगम की शिक्षा समितियों द्वारा अपने अपने जोन के पार्षदों को एक सर्कुलर जारी कर वार्डों में यह सूचना प्रसारित करने और इसमें सहायता करने के निर्देश भी दिए गए हैं। हेल्पलाइन के बाबत बताते हुए सेंटर फॉर सिविल सोसायटी के शांतनु गुप्ता ने बताया कि दोनों नगर निगम व सीसीएस द्वारा संयुक्त रूप से हेल्पलाइन शुरू की गई है जहां दाखिले से संबंधित सभी जानकारियों को प्राप्त किया जा सकेगा। शांतनु ने बताया कि दाखिले के दौरान यदि स्कूल प्रशासन नियमों एवं शर्तों का हवाला देते हुए अभिभावकों को बरगलाने की कोशिश करता है तो भी अभिभावक तत्काल हेल्पलाइन पर फोन कर वास्तविक जानकारी ले सकेंगे। उन्होंने बताया कि सोमवार से दक्षिणी दिल्ली के विभिन्न इलाकों में पैम्फलेट बांटने व लाऊडस्पीकर के माध्यम से मुनादी कराने का काम शुरू कर दिया गया है। बुधवार से पूर्वी दिल्ली के इलाकों में भी यह अभियान शुरू कर दिया जाएगा। हेल्पलाइन सहित यह अभियान दाखिला प्रक्रिया चलने तक जारी रहेगा। इस संदर्भ में पूर्वी दिल्ली शिक्षा समिति के अध्यक्ष हर्षदीप मल्होत्रा ने बताया कि जोन के सभी पार्षदों को पत्र लिख इस बाबत सूचना दे दी गई है और जनहित में इस अभियान को सफल बनाने के लिए सक्रिय होने की बात कही गई है।

- अविनाश चंद्र